Sorry, you need to enable JavaScript to visit this website.

नोडल कार्यालय

केंद्रीय सरकार के अंतर्गत नोडल कार्यालयों

नोडल कार्यालय का अर्थ है वो कार्यालय जो अभिदाताओं एवं केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण के बीच अंतरफलक के रूप में कार्य करते हैं और उनमें राज्य सरकार के अधीन कोषागार एवं लेखा निदेशालय (डीटीए), जिला कोष कार्यालय (डीटीओ) और आहरण व संवितरण कार्यालय (डीडीओ) शामिल हैं।

 

केंद्रीय कार्यालयों का राज्य सरकार पदानुक्रम

 CG Hierachy

 

1. आहरण एवं संवितरण कार्यालय

आहरण एवं संवितरण कार्यालय (डीडीओ) का कार्यः

आहरण और वितरण कार्यालय सभी पंजीकरण फार्म को इकट्ठा करता है और इसके पंजीकरण के लिए आगे केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण को भेजता है। इसके अलावा, यह अभिदाताओं से परिवर्तन अनुरोध फार्म लेता है और इसे आगे राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली योगदान लेखा नेटवर्क (एनपीएससीएएन) प्रणाली में अद्यतन के लिए प्रधान लेखा कार्यालय को आगे भेजता है। हालांकि, आहरण और वितरण कार्यालय के नीचे दिए अनुसार कई अन्य कार्य हैं:

  • अभिदाताओं से स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्यांक (पीआरएएन) के आवंटन के लिए विधिवत भरे हुए आवेदन को प्राप्त करना, इसे आगे भरना और रोजगार विवरण को प्रमाणित करना।
  • स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्यांक (पीआरएएन) के आवंटन के लिए आवेदन को समेकित करना और इसे पीएओ को आगे भेजना।
  • अभिदाताओं में स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्यांक (पीआरएएन) किट, आई-पिन, टी-पिन का वितरण करना।
  • परिवर्तन अनुरोध, नई योजना वरीयता अनुरोध, अभिदाता विवरण में परिवर्तन के अनुरोध, अभिदाताओं से प्राप्त आहरण अनुरोध को पीएओ को आगे भेजना।
  • सदस्य पेंशन अंशदान के बारे में पीएओ को जानकारी प्रदान करना।
  • अभिदाता की शिकायत को पीएओ को अग्रेषित करना।

आहरण एवं संवितरण कार्यालय अभिदाता को विभिन्न सेवाएं प्रदान करना शुरू करने से पहले स्वयं को केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण के साथ पंजीकृत करता है। केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण प्रणाली में स्वयं को पंजीकृत करने के लिए, आहरण एवं संवितरण कार्यालय संबंधित वेतन एवं लेखा कार्यालय में पंजीकरण के लिए आवेदन पत्र भेजेता है।

 

2.वेतन एवं लेखा कार्यालय

वेतन एवं लेखा कार्यालय के कार्य

वेतन एवं लेखा कार्यालय निम्नलिखित गतिविधियों को करने के लिए जिम्मेदार होगाः

  • आहरण एवं संवितरण कार्यालय पंजीकरण फार्म को समेकित करना और पंजीकरण के लिए केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण को अग्रेषित करना।
  • संबंधित आहरण एवं संवितरण कार्यालय से प्राप्त स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्यांक (पीआरएएन) के आवंटन के लिए आवेदन को समेकित करके अभिदाता के पंजीकरण की सुविधा प्रदान करना और इसे केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण - सुविधा केन्द्र को अग्रेषित करना।
  • राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली योगदान लेखा नेटवर्क (एनपीएससीएएन) प्रणाली में अभिदाता योगदान फाइल (एससीएफ) को अपलोड करना। अभिदाता योगदान फाइल में स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्यांक (पीआरएएन), वेतन भुगतान का महिना एवं वर्ष, अभिदाता अंशदान राशि और सरकारी अंशदान राशि आदि, अभिदाता के अनुसार पेंशन अंशदान विवरण शामिल होगा।
  • अभिदाता योगदान फाइल द्वारा राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली योगदान लेखा नेटवर्क (एनपीएससीएएन) में अपलोड किए अनुसार वेतन एवं लेखा कार्यालय न्यासी बैंक में अंशदान राशि जमा करेगा। यह अंशदान राशि सभी सदस्य की योजना प्राथमिकता जिसके लिए अभिदाता योगदान फाइल अपलोड किया गया है, के आधार पर पेंशन निधि प्रबंधक की विभिन्न योजनाओं में निवेश करेगा।
  • वेतन एवं लेखा कार्यालय को एनपीएससीएएन के माध्यम से अद्यतन होगा। अभिदाताओं से परिवर्तन अनुरोध, नई योजना वरीयता अनुरोध, निकासी अनुरोध, अभिदाता विवरण में बदलाव करने का अनुरोध प्राप्त किया जाएगा।
  • वेतन एवं लेखा कार्यालय आहरण एवं संवितरण कार्यालय और अभिदाता की ओर से शिकायत को उठाएगा।
  • वेतन एवं लेखा कार्यालय (पीएओ) केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण (सीआरए) प्रणाली में किसी भी संस्थान द्वारा इसके खिलाफ की गई शिकायत को हल करेगा।

हालांकि, उपर्युक्त कार्यों को करने से पहले, वेतन एवं लेखा कार्यालय को केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण के साथ स्वयं को पंजीकृत करना होगा। केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण प्रणाली में स्वयं को पंजीकृत करने के लिए, वेतन एवं लेखा कार्यालय संबंधित प्रधान लेखा कार्यालय में पंजीकरण के लिए आवेदन पत्र भेजेगा।

 

 

3.प्रमुख लेखा कार्यालय

एक प्रमुख लेखा कार्यालय के राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली में कई कार्य होते हैं। हालांकि, उनमें से ज्यादातर अपने अधिकार क्षेत्र के अधीन नोडल कार्यालयों के प्रदर्शन की निगरानी करना होता है। केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण पर्यवेक्षी संस्था की भूमिका निभाने की सुविधा देने के लिए प्रधान लेखा कार्यालय (पीआरएओ) को विभिन्न चेतावनी भेजता है।

प्रधान लेखा कार्यालय (पीआर.एओ) के कार्यः

प्रधान लेखा कार्यालय निम्नलिखित गतिविधियों करने के लिए जिम्मेदार होगा।

  • वेतन एवं लेखा कार्यालय पंजीकरण फार्म को समेकित करना और इसे आगे पंजीकरण के लिए भेजना।
  • केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण प्रणाली में अपनी जिम्मेदारियों के निर्वहन में वेतन एवं लेखा कार्यालय और आहरण एवं संवितरण कार्यालय के प्रदर्शन पर नज़र रखना।
  • वेतन एवं लेखा कार्यालय के खिलाफ की गई शिकायतों के समाधान की निगरानी करना।
  • केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण प्रणाली की संचालन प्रक्रियाओं के साथ वेतन एवं लेखा कार्यालय और आहरण एवं संवितरण कार्यालय के अनुपालन को सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक कार्रवाई करना।

प्रधान लेखा कार्यालय, नोडल कार्यालय की अपनी क्षमता में स्वयं को केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण के साथ पंजीकृत करेगा। इसके अलावा, प्रधान लेखा कार्यालय इससे संलग्न वेतन एवं लेखा कार्यालय के पंजीकरण आवेदन पत्रों को केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण को भेजेगा। केन्द्रीय सरकार के नोडल कार्यालयों की जानकारी के लिए।

राज्य सरकार के अंतर्गत नोडल कार्यालयों

नोडल कार्यालय का अर्थ है वो कार्यालय जो अभिदाताओं एवं केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण के बीच अंतरफलक के रूप में कार्य करते हैं और उनमें राज्य सरकार के अधीन कोषागार एवं लेखा निदेशालय (डीटीए), जिला कोष कार्यालय (डीटीओ) और आहरण व संवितरण कार्यालय (डीडीओ) शामिल हैं।
 

 

केंद्रीय कार्यालयों का राज्य सरकार पदानुक्रम

 SG Hierachy

 

1.आहरण एवं संवितरण कार्यालय के कार्य -आहरण एवं संवितरण कार्यालय सभी पंजीकरण फार्म को इकट्ठा करता है और इसे पंजीकरण के लिए केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण को प्रेषित करता है। इसके अलावा, यह अभिदाताओं से प्राप्त परिवर्तन अनुरोध फार्म भेजेगा और इसे राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली योगदान लेखा नेटवर्क (एनपीएससीएएन) प्रणाली में अद्यतन के लिए जिला कोष कार्यालय को अग्रेषित करेगा। हालांकि, आहरण एवं संवितरण कार्यालय के कई अन्य कार्य हैं जिनका उल्लेख नीचे किया गया हैः

  • अभिदाताओं से स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्यांक(पीआरएएन) के आवंटन के लिए विधिवत भरे हुए आवेदन प्राप्त करना, इसे भरना और रोजगार विवरण को प्रमाणित करना|
  • स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्यांक (पीआरएएन) के आवंटन के लिए आवेदन पत्रों को समेकित करना और इसे जिला कोष कार्यालय करने को प्रेषित करना।
  • अभिदाताओं में स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्यांक (पीआरएएन) किट, आई-पिन, टी-पिन का वितरण करना।
  • परिवर्तन अनुरोध, नई योजना वरीयता अनुरोध, अभिदाता विवरण में परिवर्तन के अनुरोध, अभिदाताओं से प्राप्त आहरण अनुरोध को जिला कोष कार्यालय को आगे भेजना।
  • सदस्य पेंशन अंशदान के बारे में जिला कोष कार्यालय को जानकारी प्रदान करना|
  • अभिदाता की शिकायत को जिला कोष कार्यालय को अग्रेषित करना।

आहरण एवं संवितरण कार्यालय अभिदाता को विभिन्न सेवाएं प्रदान करना शुरू करने से पहले स्वयं को सीआरए के साथ पंजीकृत करेगा। सीआरए सिस्टम में स्वयं को पंजीकृत करने के लिए, आहरण एवं संवितरण कार्यालय संबंधित जिला कोष कार्यालय में पंजीकरण के लिए आवेदन पत्र भेजेगा।

 

2.जिला कोष कार्यालय (डीटीओ) - राज्य सरकार के अधीन जिला कोष कार्यालय राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली के तहत रक्षित अभिदाताओं के लिए अंशदान विवरण को बनाए रखने के लिए जिम्मेदार है।

जिला कोष कार्यालय के कार्य

जिला कोष कार्यालय निम्नलिखित गतिविधियों को करने के लिए जिम्मेदार होगाः

  • आहरण एवं संवितरण कार्यालय पंजीकरण फार्म को समेकित करना और पंजीकरण के लिए केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण को अग्रेषित करना।
  • संबंधित आहरण एवं संवितरण कार्यालय से प्राप्त स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्यांक (पीआरएएन) के आवंटन के लिए आवेदन को समेकित करके अभिदाता के पंजीकरण की सुविधा प्रदान करना और इसे केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण – सुविधा केंद्र को प्रेषित करना।
  • राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली योगदान लेखा नेटवर्क (एनपीएससीएएन) प्रणाली में अभिदाता योगदान फाइल (एससीएफ) को अपलोड करना। अभिदाता योगदान फाइल में स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्यांक (पीआरएएन), वेतन भुगतान का महिना एवं वर्ष, अभिदाता अंशदान राशि और सरकारी अंशदान राशि आदि, अभिदाता के अनुसार पेंशन अंशदान विवरण शामिल होगा।
  • अभिदाता योगदान फाइल द्वारा राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली योगदान लेखा नेटवर्क (एनपीएससीएएन) में अपलोड किए अनुसार न्यासी बैंक में अंशदान राशि जमा करना। यह अंशदान राशि सभी सदस्य की योजना प्राथमिकता जिसके लिए एससीएफ अपलोड किया गया है, के आधार पर पीएफएम की विभिन्न योजनाओं में निवेश करेगा
  • राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली योगदान लेखांकन नेटवर्क के माध्यम से अपडेट करना। अभिदाताओं से परिवर्तन अनुरोध, नई योजना वरीयता अनुरोध, निकासी अनुरोध, अभिदाता विवरण में बदलाव करने का अनुरोध प्राप्त करना।
  • डीडीओ और अभिदाता की ओर से शिकायत को उठाना।
  • केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण प्रणाली में किसी भी संस्थान द्वारा इसके खिलाफ की गई शिकायत को हल करना।

हालांकि, उपर्युक्त कार्यों को करने से पहले, जिला कोष कार्यालय को केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण के साथ स्वयं को पंजीकृत करना होगा। सीआरए प्रणाली में स्वयं को पंजीकृत करने के लिए, जिला कोष कार्यालय संबंधित डीटीए में पंजीकरण के लिए आवेदन पत्र भेजेगा।

3.कोषागार और लेखा निदेशालय (डीटीए) - कोषागार और लेखा निदेशालय के राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली में कई कार्य हैं। हालांकि, उनमें से ज्यादातर अपने अधिकार क्षेत्र के अधीन आने वाले केंद्रीय कार्यालयों के प्रदर्शन की निगरानी करना है। सीआरए पर्यवेक्षी संस्था की भूमिका निभाने की सुविधा देने के लिए कोषागार और लेखा निदेशालय के लिए विभिन्न चेतावनी भेजता है।

कोषागार और लेखा निदेशालय के कार्यः

कोषागार और लेखा निदेशालय निम्नलिखित गतिविधियों को करने के लिए जिम्मेदार होगाः

  • जिला कोष कार्यालय पंजीकरण फार्म को समेकित करना और इसे आगे पंजीकरण के लिए भेजना।
  • केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण प्रणाली में अपनी जिम्मेदारियों के निर्वहन में जिला कोष कार्यालय और आहरण एवं संवितरण कार्यालय के प्रदर्शन पर नज़र रखना।
  • जिला कोष कार्यालय के खिलाफ की गई शिकायतों के समाधान की निगरानी करना।
  • केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण प्रणाली की संचालन प्रक्रियाओं के साथ जिला कोष कार्यालय और आहरण एवं संवितरण कार्यालय के अनुपालन को सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक कार्रवाई करना।

जिला कोष कार्यालय, नोडल कार्यालय की अपनी क्षमता में स्वयं को केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण के साथ पंजीकृत करता है। इसके अलावा, निधि और लेखा निदेशालय इससे संलग्न जिला कोष कार्यालय के पंजीकरण आवेदन पत्रों को केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण को भेजता है। केन्द्रीय सरकार के नोडल कार्यालयों की जानकारी के लिए।

उपस्थिति अस्तित्व के कार्य

A. अभिदाता पंजीकरण :

उपस्थिति अस्तित्व/उपस्थिति अस्तित्व-सेवा प्रदाता टीयर I और टीयर II खाते के लिए अभिदाता के पंजीकरण की सुविधा देगा। पंजीकरण प्रक्रिया में शामिल चरण हैं :

  1. फार्म की स्वीकृति : T+1 पर संभावित अभिदाता से केवल विधिवत भरा हुआ समग्र समग्र अभिदाता पंजीकरण फॉर्म (सीएसआरएफ) स्वीकार करना (T पूरे अभिदाता पंजीकरण फार्म प्राप्त होने की तारीख है)
  2. फार्म का सत्यापन : जन्म तिथि, बैंक, नामांकन, योजना विवरण आदि के साथ हस्ताक्षरित और पूर्ण फार्म को सत्यापित करना। निर्धारित मानदंडों के अनुसार अपने अपने ग्राहक को जानें (केवाईसी) दस्तावेजों की पुष्टि करना।
  3. फार्म का प्रसंस्करण : अपने हाथ से डिजिटलीकरण के लिए केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण/केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण - सुविधा केंद्र (एफसी) को सभी स्वीकृत आवेदन फर्म (समर्थन दस्तावेजों सहित) वहां जमा करना जहां उपस्थिति अस्तित्व-सेवा प्रदाता (पीओपी-एसपी) और केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण-सुविधा केंद्र (सीआरए-एफसी) सह-स्थापित हैं या डाक द्वारा मुम्बई में केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण को हंस्तांतरित करना। अभिदाता पंजीकरण फार्म एवं समर्थन दस्तावेजों का वितरण केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण/केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण-सुविधा केंद्र को T+2 दिनों में करना (T पूरे अभिदाता पंजीकरण फार्म प्राप्त होने की तारीख है)।

B. पंजीकरण के समय प्रारंभिक योगदान प्रसंस्करण :

  1. आवेदन पत्र के साथ विधिवत भरे हुए राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली अंशदान निर्देश स्लिप (एनसीआईएस) एकत्र करना और सुनिश्चित करना कि अभिदाता द्वारा अंशदान निर्देश स्लिप में सारा प्रासंगिक विवरण प्रदान किया गया है।
  2. अभिदाता के इसी स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्यांक के लिए T+1 के आधार पर न्यासी बैंक को इसके शुल्क एवं लागू कर को काटकर स्पष्ट निधि भेजना।
  3. ‘अंशदान निर्देश स्लिप (’एनसीआईएस’) और लेनदेन संबंधित अन्य दस्तावेज अपने पास रखना|

C. अभिदाता का नियमित अंशदान :

  1. उपस्थिति अस्तित्व/उपस्थिति अस्तित्व-सेवा प्रदाता अभिदाता से अंशदान निर्देश स्लिप को स्वीकार करने में अपेक्षित कर्मठता दिखाना और वह स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्यांक (पीआरएएन नंबर), नाम, भुगतान विवरण आदि की जाँच करना।
  2. अभिदाता के स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्यांक (पीआरएएन) के लिए T+1 आधार पर केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण प्रणाली बैंक में ऑनलाइन अंशदान विवरण अपलोड करना । (T क्लीयर फंड प्राप्त होने की तारीख है)
  3. अभिदाता के इसी स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्यांक के लिए T+1 के आधार पर न्यासी बैंक को इसके शुल्क एवं लागू कर को काटकर स्पष्ट निधि भेजना। (T स्पष्ट निधि प्राप्त होने की तारीख है)

D. अभिदाता के विवरण में बदलाव :

उपस्थिति अस्तित्व अभिदाता के लिए निम्न राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली सेवाएं प्रदान करता हैः

  1. T+1 आधार पर अभिदाता का व्यक्तिगत विवरण में बदलाव करना।
  2. यदि ऐसा अनुरोध सार्वजनिक के लिए बैंकिंग घंटों में प्राप्त हुआ है, तो उसी दिन (T) निवेश योजना/निधि प्रबंधक बदलना या यदि ऐसा अनुरोध सार्वजनिक के लिए बैंकिंग घंटो के बाद प्राप्त हुआ है, तो अगले कार्य दिवस (T+1) पर विवरण बदलना।
  3. यदि ऐसा अनुरोध सार्वजनिक के लिए बैंकिंग घंटों में प्राप्त हुआ है, तो उसी दिन (T) आहरण अनुरोध का प्रसंस्करण करना या यदि ऐसा अनुरोध सार्वजनिक के लिए बैंकिंग घंटो के बाद प्राप्त हुआ है, तो अगले कार्य दिवस (T+1) पर आहरण अनुरोध का प्रसंस्करण करना।
  4. T+1 आधार पर अभिदाता स्थानांतरण के लिए अनुरोध का प्रसंस्करण करना।
  5. मुद्रित खाता विवरण जारी करना।
  6. T+1 आधार पर आई-पिन, टी-पिन, स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्यांक कार्ड को पुनः जारी करने के लिए अभिदाता के अनुरोध को संबोधित करना।
  7. प्राधिकरण द्वारा निर्धारित कोई भी अन्य सेवाएं।
    उपरोक्त सभी मामलों में, T अनुरोध प्राप्त होने की तारीख है।

E. शिकायत निवारण :

अभिदाता एवं अन्य राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली मध्यस्थों की शिकायतों को नियंत्रित करने के लिए उपस्थिति अस्तित्व/उपस्थिति अस्तित्व-सेवा प्रदाता द्वारा उठाए जाने वाले कदमः

  1. दैनिक आधार पर केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण के केन्द्रीय शिकायत प्रबंधन प्रणाली (सीजीएमएस) में अभिदाता द्वारा प्रस्तुत सभी शिकायतें प्राप्त करना और अपलोड करना। केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण का केन्द्रीय शिकायत प्रबंधन प्रणाली राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली मध्यस्थों से संबंधित शिकालतों का मार्ग होगा।
  2. अगर उपस्थिति अस्तित्व/उपस्थिति अस्तित्व-सेवा प्रदाता को केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण या न्यासी बैंक जैसे किसी भी राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली मध्यवर्ती संस्था से शिकायत होगी, उसे केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण के केन्द्रीय शिकायत प्रबंधन प्रणाली का प्रयोग करके या केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण कॉल सेंटर में शिकायत दर्ज करनी होगी।
संकलनकर्ता के कार्य

संकलनकर्ता अपने एनएलओओ/एनएलएओ/एनएलसीसी के माध्यम से निम्नलिखित कार्य की जिम्मेदारी लेगा:

A. अनुपालनः

संकलनकर्ता को धनशोधन निवारण अधिनियम, 2002 के रोकथाम प्रावधानों में अभिदाताओं द्वारा सारे लेनदेन का रखरखाव एवं रिपोर्टिंग को सुनिश्चित करना पड़ता है।

B. अभिदाताओं की सेवा

राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली-लाइट सिस्टम ने योगदान प्रसंस्करण के समय एनपीएस-लाइट/स्वावलंबन के तहत नामांकित अभिदाताओं के विवरण को बनाए रखने की परिकल्पना की है। संकलनकर्ता एनपीएस-लाइट अभिदाताओं के लिए निम्नलिखित सेवाएं प्रदान करता हैः

  1. यदि अभिदाता ने T+5 आधार पर एनपीएस लाइट प्रणाली में प्रभावित होने के लिए नीचे दिए अनुसार सभी बदलावों के लिए प्राधिकरण द्वारा निर्धारित अभिदाता विवरण बदलाव फार्म को जमा करके अनुरोध किया है, तो संकलनकर्ता अभिदाता विवरण में बदलाव करेगा, यहां T अनुरोध प्राप्ति की तारीख हैः
    • नाम अद्यतनःनिर्धारित समर्थन दस्तावेजों के साथ स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्यांक कार्ड की एक प्रति प्रस्तुत करना।
    • पता अद्यतनःउचित समर्थन दस्तावेज प्रस्तुत करना और स्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्यांक कार्ड की प्रति प्रस्तुत करना।
    • फोन/मोबाइल नंबर/ईमेल आईडी अद्यतनःकोई अतिरिक्त दस्तावेजों की आवश्यकता नहीं है।
    • अभिदाता बैंक विवरण अद्यतनःस्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्यांक कार्ड की प्रति के साथ आवश्यक समर्थन दस्तावेज प्रस्तुत करना होगा। बैंक विवरण के मामले में, संकलनकर्ता को सुनिश्चित करना होगा कि अभिदाता द्वारा प्रदत्त बैंक विवरण पूरा है और किस बैंक का विवरण (बैंक का नाम और बैंक खाता संख्या) फार्म में प्रदत्त बैंक विवरण से मेल खाएगा।
    • नामांकन विवरण में बदलावःस्थायी सेवानिवृत्ति खाता संख्यांक कार्ड की प्रति।
    • अभिदाता के परिवर्तन/योजना वरीयता परिवर्तन अनुरोध।
  2. संकलनकर्ता को आहरण अनुरोध T+5 के आधार पर राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली लाइट में लोगिंग द्वारा प्राप्त होगी, यहां T अनुरोध प्राप्ति की तारीख है।
  3. संकलनकर्ता T_5 आधार पर पीआरएएन कार्ड को पुनः जारी करने के लिए अभिदाता के अनुरोध को संबोधित करेगा, जहाँ T अनुरोध प्राप्ति की तारीख है।

C. अभिदाता के अंशदान का प्रसंस्करण

  1. अंशदान की स्वीकृतिःसंकलनकर्ता अंशदान के संग्रह के बाद उचित पावती संख्या के साथ राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली-लाइट/स्वावलंबन अभिदाता के लिए रसीद (अधिमानतः इलेक्ट्रॉनिक रसीद) जारी करेगा।
  2. अंशदान राशि को जमा करनाःसंकलनकर्ता T+1आधार पर उनके द्वारा प्रबंधित संग्रह खाते में संग्रह केंद्र द्वारा अभिदाता से एकत्रित अंशदान (नकद/चैक) को जमा करेगा। (T एग्रीगेटर द्वारा अभिदाता से पैसे की वसूली की तारीख है)
  3. एससीएफ को अपलोड करनाःसंकलनकर्ता T+2 पर या उससे पहले स्पष्ट निधि प्राप्त करने के बाद सीआरए सिस्टम में एससीएफ को तैयार और अपलोड करेगा, जहां T संकलनकर्ता द्व़ारा क्लीयर फंड प्राप्ति की तारीख है।
  4. न्यासी बैंक को प्रेषणःसंकलनकर्ता T+2 को न्यासी बैंक के साथ प्रबंधित राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली न्यास के खाते में धन प्रेषित करेगा, T एग्रीगेटर द्वारा क्लीयर फंड प्राप्ति की तारीख है।

D. शिकायतों का निवारणः

  1. संकलनकर्ता को एनपीएस लाइट/स्वावलंबन अभिदाता को दी गई सेवाओं के बारे में शिकायतों का निवारण करने के लिए आंतरिक रूप से पीएफआरडीए (अभिदाता शिकायत निवारण) अधिनियम, 2015 के संदर्भ में उचित निवारण तंत्र का गठन करना चाहिए। ‘संकलनकर्ता’ के नामित शिकायत निवारण अधिकारी का नाम एवं टेलीफोन नंबर अभिदाता को उपलब्ध कराया जाना चाहिए। नामित अधिकारी को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि अभिदाताओं की शिकायतों का निवारण ठीक से किया गया है।
  2. यदि अभिदाता का लगता है कि उसकी शिकायत संतोषजनक ढंग से निपटाई नहीं गई है, तो उसके पास अपनी शिकायत/शिकायतों को संबोधित करने के लिए संबंधित संकलनकर्ता के निरीक्षण कार्यालय (एनएलओओ) और लेखा कार्यालय (एनएलएओ) से संपर्क करने का विकल्प होगा।
  3. संकलनकर्ता अभिदाताओं एवं अन्य राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली मध्यस्थों की शिकायतों को राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली-लाइट में दर्ज करने, उनकी पुष्टि करने और उनका निवारण करने के लिए निम्न कदम उठाने होंगेः
  4. निर्धारित प्रारूप में संकलनकर्ता या किसी अन्य राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली मध्यवर्ती संस्था के खिलाफ अभिदाता की शिकायत प्राप्त करना और दैनिक आधार पर केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण लाइट की केन्द्रीय शिकायत प्रबंधन प्रणाली (सीजीएमएस) में सभी शिकायतों को अपलोडिंग करना। केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण लाइट के केन्द्रीय शिकायत प्रबंधन प्रणाली संबंधित राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली शिकायतों को संबंधित राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली मध्यस्थों को भेजेगा|
  5. यदि संकलनकर्ता के पास केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण या न्यासी बैंक जैसे राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली मध्यवर्ती संस्थाओं के खिलाफ शिकायत आती है, तो इसे केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण के केन्द्रीय शिकायत प्रबंधन प्रणाली का प्रयोग करके या केंद्रीय अभिलेखापाल अभिकरण कॉल सेंटर में शिकायत उठानी होगी।